Type to search

चीन में हो रही है चांद से लाए चावलों की खेती,जानिए कैसा रहा रिजल्ट

दुनिया विज्ञान

चीन में हो रही है चांद से लाए चावलों की खेती,जानिए कैसा रहा रिजल्ट

Share
China

चीन अपनी महत्वाकांक्षी परियोजनाओं के साथ गहरे अंतरिक्ष अन्वेषण पर जोर दे रहा है। अब बीजिंग ने अपनी खाद्य सुरक्षा को मजबूत करने के लिए चांग-5 मिशन के साथ चंद्रमा की यात्रा से लौटे चावल के बीजों को उगाने की मंजूरी दे दी है। राज्य टेलीविजन के अनुसार, वैज्ञानिकों ने 40 ग्राम बीज से चावल की खेती शुरू की है। वे अब फसल का अध्ययन करने की प्रक्रिया में हैं ताकि देश भर में खेती के लिए स्वीकृत सर्वोत्तम किस्म के बीजों की पहचान की जा सके। चीन की विशाल आबादी और उपभोग्य सामग्रियों की मांग के बीच खाद्य सुरक्षा पर जोर दिया जा रहा है।

चांद से वापस लौटे इन चावलों को चीनी प्रशासन ‘स्वर्ग से आए चावल’ नाम दिया है। इन बीजों ने पिछले नवंबर में चंद्रमा तक की 7,60,000 किलोमीटर से अधिक की यात्रा की थी और चीन के चांग -5 की 23 दिनों की उड़ान के बाद 17 दिसंबर को पृथ्वी पर लौट आए। दक्षिण चीन कृषि विश्वविद्यालय (एससीएयू) में प्लांट स्पेस ब्रीडिंग के नेशनल इंजीनियरिंग रिसर्च सेंटर में सीडलिंग विकसित की।

यात्रा के दौरान, बीज ब्रह्मांडीय विकिरण और शून्य गुरुत्वाकर्षण के अलावा हिंसक सनस्पॉट गतिविधि के संपर्क में थे। चीनी शोधकर्ताओं का मानना है कि इनमें से कुछ बीज उत्परिवर्तित हो सकते हैं और उच्च पैदावार और बेहतर गुणवत्ता का उत्पादन कर सकते हैं।रिसर्च सेंटर के उप निदेशक गुओ ताओ ने चाइना मीडिया ग्रुप को बताया कि सबसे अच्छे बीज प्रयोगशालाओं में पैदा किए जाएंगे और बाद में खेतों में लगाए जाएंगे।

ग्लोबल टाइम्स ने अंतरिक्ष विश्लेषक वांग यानान के हवाले से कहा कि, अंतरिक्ष स्टेशन पर लंबे समय तक मानव रहने के साथ, शोधकर्ता अंतरिक्ष में एक स्व-पुनर्चक्रण पारिस्थितिकी तंत्र का परीक्षण करने के लिए प्रयोग करने की उम्मीद कर रहे हैं। इस कदम से अतंरिक्ष में रहने की लागत में बहुत कटौती होगा और भविष्य की मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ानों के लिए आवश्यक संसाधनों को कम करेगा। इससे अधिक गहरे अंतरिक्ष अन्वेषणों को वैधता मिलेगी। जिसमें चंद्र अनुसंधान आधार का निर्माण और मंगल पर मानवयुक्त मिशन शामिल हैं।

Share This :
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join #Khabar WhatsApp Group.